Hindi Sentences (हिंदी वाक्य)

हिंदी वाक्य :- वक्ता के कथन को पूर्णत: व्यक्त करने वाले सार्थक शब्द समूह को वाक्य कहते हैं।

वाक्य में पूर्णता तभी आती है जब पद सुनिश्चित क्रम में हों और इन पदों में पारस्परिक अन्वय (समन्वय ) विद्यमान हो। वाक्य की शुद्धता भी पदक्रम एवं अन्वय से सम्बंधित है।


वाक्य के भेद:-


1. रचना की दृष्टि से:- रचना की दृष्टि से वाक्य तीन प्रकार के होते हैं:

    (अ) सरल वाक्य
    (ब) संयुक्त वाक्य
    (स) मिश्रित वाक्य

(अ) सरल वाक्य:- जिन वाक्यों में एक मुख्य क्रिया हो, उन्हें सरल वाक्य कहते हैं। जैसे पानी बरस रहा है।


(ब) संयुक्त वाक्य:- जिन वाक्यों में साधारण या मिश्र वाक्यों का मेल संयोजक अव्ययों द्वारा होते है उसे संयुक्त वाक्य कहते हैं, जैसे राम घर गया और खाना खाकर सो गया।


(स) मिश्रित वाक्य:- इनमें एक प्रधान उपवाक्य होता है और एक आश्रित उपवाक्य होता है जैसे राम ने कहा कि मैं कल नहीं आ सकूंगा।



2. अर्थ की दृष्टि से वाक्य भेद:- ये आठ प्रकार के होते हैं: -

  (1) विधानार्थक :- जिसमें किसी बात के होने का बोध हो।  जैसे मोहन घर गया।


  (2 ) निषेधात्मक :- जिसमें किसी बात के न होने का बोध हो। जैसे सीता ने गीत नहीं गाया।
  (3)  आज्ञावाचक :- जिसमें आज्ञा दी गई हो। जैसे यहां बैठो।
  (4) प्रश्नवाचक :- जिसमें कोई प्रश्न किया गया हो। जैसे तुम कहाँ रहते हो?
  (5) विस्मयवाचक :- जिसमें किसी भाव का बोध हो। जैसे हाय, वह मर गया।
  (6) संदेहवाचक :- जिसमें संदेह या संभावना व्यक्त की गई हो। जैसे वह आ गया होगा।
  (7) इच्छावाचक :- जिसमें कोई इच्छा या कामना व्यक्त की जाए। जैसे ईश्वर तुम्हारा भला करे।
  (8) संकेतवाचक :- जहाँ एक वाक्य दूसरे वाक्य के होने पर निर्भर हो। जैसे यदि गर्मी पड़ती तो पानी बरसता।

2 टिप्‍पणियां:

  1. सहबागी सूची प्रऩत्र
    ऩरयचम
    आऩ के भयीज को शल्म क्रिमा औय गुदे प्रत्मायोऩण , v m m c औय सपदयजंग अस्ऩतार, नई ददल्री
    के विबाग भें “ percutaneous nephrolithotomy का उऩमोग कय supracostal ऩहुंच फनाभ
    infracostal भैं जदिरताओं का तुरनात्भक अध्ममन भें बाग रेने के लरए अनुभतत दी जाती है I इस
    अध्ममन भें आऩकी बागीदायी स्िैच्छिक है I बफना क्रकसी चचक्रकत्सा उऩचाय के प्रबावित हुए, तुभ क्रकसी बी
    सभम इस अध्ममन भैं बाग रे सकते हो मा अऩना नाभ िाऩस रे सकते हो I सहभतत प्रऩत्र को अछिी तयह से
    ऩढ़ सकते हैं औय हस्ताऺय कयने से ऩहरे सराहकाय अध्ममन से क्रकसी बी प्रकाय का प्रश्न ऩूि सकते हैंI
    प्रक्रिमा की व्माख्मा
    मदद आऩ इस अध्ममन भें बाग रेने की सहभतत देते हैं तो हभ उनसे कुि सिार ऩूिेंगे, ऩयीऺा कयेंगे, औय
    अल्रा सोनोग्रापी, एक्स ये, यक्त , भुत्र ऩयीऺण के साथ PCNL सजजयी होगी I फाद भें अस्ऩतार के रयकॉर्ज से
    संफंचधत जानकायी इकट्ठा की जाएगी I अध्ममन से प्राप्त हुई सूचना को अनुसंधान उद्देश्म के लरए ही
    इस्तेभार कीमा जाएगा I अध्ममन आऩके चचक्रकत्सा देखबार को प्रबावित नहीं कयेगा I इस अध्ममन भें बाग
    रेने के लरए आऩसे क्रकसी बी प्रकाय का बुगतान मा कीभत नहीं लरमा जाएगा I
    संबावित राब
    आऩकी बागीदायी , इस प्रक्रिमा के फाये भें अचधक जानकायी प्राप्त कयने भें सहामक होगीI इस अध्ममन के
    ऩरयणाभों से इसी तयह की सभस्मा को हर कयना आसान होगा I र्ॉक्ियों औय भयीजों के बविष्म की ऩीढ़ी के
    लरए पामदेभंद होगा I
    गोऩनीमता
    इस अध्ममन भें आऩकी बागीदायी के विषम भें जानकायी को कानून द्िाया अनुभत ऩूणज गोऩनीम यखा
    जाएगा औय केिर िैऻातनक उद्देश्मों के लरए इस्तेभार क्रकमा जाएगा I अनुसंधान दर के सदस्मों को िोड़कय
    कोई बी अध्ममन से प्राप्त ऩरयणाभ का उऩमोग नहीं कयेगाI आऩका नाभ क्रकसी बी रयऩोिज भें उऩमोग मा क्रकसी
    बी तयह का विभोचन नहीं क्रकमा जाएगा I
    आगे विस्ताय से जानकायी के लरए आऩ संऩकज कय सकते हैं
    र्ॉक्िय ऩंकज गुप्ता पोन नंफय

    उत्तर देंहटाएं
  2. कृपया जानकारी को थोडा विस्तृत करे व अधिक से अधिक उदाहरण से समझाने का प्रयास करें |
    धन्यवाद !!!

    उत्तर देंहटाएं

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Copyright © Hindi Grammar Online. All rights reserved. Template by CB