Random Posts

Rasa in Hindi (Aesthetics) ( रस )




रस - काव्य को पढ़ते या सुनते समय हमें जिस आनन्द की अनुभूति होती है ,उसे ही रस कहा जाता है ! रसों की संख्या नौ मानी गई हैं ! 

    रस का नाम                          स्थायीभाव 

1- श्रृंगार                                 - रति 
2- वीर                                    - उत्साह 
3- रौद्र                                    - क्रोध 
4- वीभत्स                               - जुगुप्सा ( घृणा )
5- अदभुत                               - विस्मय 
6- शान्त                                 - निर्वेद 
7- हास्य                                 - हास
8- भयानक                             - भय
9- करुण                                 - शोक 

( इनके अतिरिक्त दो रसों की चर्चा और होती है )- 

10- वात्सल्य                           - सन्तान विषयक रति 
11- भक्ति                                - भगवद विषयक रति 

Words with Various Meanings (अनेकार्थी शब्द)



अनेकार्थी शब्द - 

अरुण - लाल ,सूर्य का सारथि ,सूर्य 

अज - दशरथ के  पिता ,बकरा ,ब्रह्मा 

अर्णव - समुंद्र ,सूर्य ,इंद्र 

आम - आम  का फल ,सर्वसाधारण 

इंद्र - राजा ,देवताओं का राजा 

इंदु - चन्द्रमा ,कपूर 

उमा - पार्वती ,दुर्गा ,हल्दी 

उत्तर - जवाब ,एक दिशा 

काल - समय ,मृत्यु ,यमराज 

कोटि - करोड़ श्रेणी ,धनुष का सिरा 

कपि - बंदर ,हाथी ,सूर्य 

केतु - पताका ,एक अशुभ ग्रह 

कुल - वंश ,सम्पूर्ण 

खर - दुष्ट ,गधा ,तिनका 

ख - आकाश ,सूर्य ,स्वर्ण 

खत - पत्र ,लिखावट 

गति - चाल ,हालत ,मोक्ष 

घन - घना ,बादल 

घट - घड़ा ,शरीर ,हृदय 

चश्मा - ऐनक ,झरना 

चूना - टपकना ,पुताई करने वाला चूना 

छत्र - छाता ,कुकुरमुत्ता ,छतरी 

पास - उत्तीर्ण ,निकट 

बाग - उपवन ,लगाम 

लाल - माणिक्य ,पुत्र ,रक्तवर्णी 

वर - श्रेष्ट ,दूल्हा ,वरदान 

रस - काव्यानंद ,भोज्यरस ,स्वाद 

मित्र - सूर्य ,दोस्त 

मंगल - कल्याण ,एक ग्रह 

वंश - बाँस ,कुल 

जरा - बुढ़ापा ,थोड़ा -सा ,जला हुआ 

तरणि - सूर्य ,नौका 

दक्ष - चतुर ,ब्रह्मा के पुत्र 


धनंजय - अर्जुन, अग्नि 

पति - स्वामी, शौहर 

पोत - जहाज , मोती , बच्चा 

पत्र  - चिट्ठी , पत्ता 

पद - पैर , पोस्ट , छंद 

परदा - आवरण , पट, घूंघट 

परी - अप्सरा ,लेटी ,घी मापने का पात्र 

नाना - माता का पिता ,विविध 

मुद्रा - अंगूठी ,सिक्का ,भावमुद्रा 

भूत - भूत प्रेत ,भूतकाल 

स्नेह - प्रेम ,तेल 

हस्ती - हाथी ,हैसियत 

सैंधव - घोड़ा ,नमक 

श्री - शोभा ,लक्ष्मी ,सम्पत्ति 

श्याम - कृष्ण ,काला 

रंभा - एक अप्सरा ,केला ,वेश्या 

रसा - पृथ्वी ,जीभ ,शोरबा 

लय - लीन होना ,ताल ,प्रवाह 





Ghosh and Aghosh Alphabets (घोष और अघोष)



घोष और अघोष :- ध्वनि की दृष्टि से जिन व्यंजन वर्णों के उच्चारण में स्वरतन्त्रियाँ झंकृत होती है , उन्हें ' घोष ' कहते है और जिनमें स्वरतन्त्रियाँ झंकृत नहीं होती उन्हें ' अघोष ' व्यंजन कहते हैं ! ये घोष - अघोष व्यंजन इस प्रकार हैं - 

       घोष                         अघोष

   ग , घ ,  ङ                    क , ख 
  
   ज , झ ,  ञ                   च , छ 

   ड , द , ण , ड़ , ढ़            ट , ठ 

   द , ध , न                      त , थ 

   ब , भ , म                      प , फ 

   य , र , ल , व , ह             श , ष , स 



Alppraan and Mahapraan Alphabets (अल्पप्राण और महाप्राण)



अल्पप्राण और महाप्राण :- जिन वर्णों के उच्चारण में मुख से कम श्वास निकले उन्हें  'अल्पप्राण ' कहते हैं ! और जिनके उच्चारण में अधिक श्वास निकले उन्हें ' महाप्राण 'कहते हैं!
ये वर्ण इस प्रकार है - 


      अल्पप्राण                          महाप्राण

     क , ग , ङ                          ख , घ 

     च , ज , ञ                         छ , झ 

     ट , ड , ण                          ठ , ढ 

     त , द , न                          थ , ध 

     प , ब , म                          फ , भ 

     य , र , ल , व                      श , ष , स , ह 



Sentence Errors Correction (वाक्य अशुद्धि शोधन)



वाक्य अशुद्धि शोधन = सार्थक एवं पूर्ण विचार व्यक्त करने वाले शब्द समूह को वाक्य कहा जाता है ! प्रत्येक भाषा का मूल ढांचा वाक्यों पर ही आधारित होता है ! इसलिए यह अनिवार्य है कि वाक्य रचना में पद -क्रम और अन्वय का विशेष ध्यान रखा जाए ! इनके प्रति सावधान न रहने से वाक्य रचना में कई प्रकार की भूलें हो जाती हैं ! वाक्य रचना के लिए अभ्यास की परम आवश्यकता होती है ! जैसे - 

1 - संज्ञा सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 
  
      अशुद्ध                                                  शुद्ध 

- वह आंख से काना है ।                                वह काना है । 
- आप शनिवार के दिन चले जाएं ।                  आप शनिवार को चले जाएं । 

2 - परसर्ग सम्बन्धी अशुद्धियाँ

        अशुद्ध                                                   शुद्ध 

- आप भोजन किया ?                                 आपने भोजन किया । 
- उसने नहाया ।                                        वह नहाया । 

3 - लिंग सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 

    अशुद्ध                                                    शुद्ध 

- हमारी नाक में दम है ।                           हमारे नाक में दम है । 
- मुझे आदेश दी ।                                   मुझे आदेश दिया । 

4 - वचन सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 

       अशुद्ध                                              शुद्ध 

- उसे दो रोटी दे दो ।                                उसे दो रोटियां दे दो । 
- मेरा कान मत खाओ ।                           मेरे कान मत खाओ । 

5 - सर्वनाम सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 

      अशुद्ध                                                      शुद्ध 

- तुम तुम्हारे रास्ते लगो ।                          तुम अपने रास्ते लगो । 
- हमको क्या ?                                       हमें क्या ? 

6 - विशेषण सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 

      अशुद्ध                                              शुद्ध 

- मुझे छिलके वाला धान चाहिए ।               मुझे धान चाहिए । 
- एक गोपनीय रहस्य ।                            एक रहस्य । 

7 - क्रिया सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 

       अशुद्ध                                          शुद्ध 

- उसे हरि को पटक डाला ।                    उसने हरि को पटक दिया । 
- वह चिल्ला उठा ।                             वह चिल्ला पड़ा । 

8 - मुहावरे सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 

       अशुद्ध                                                शुद्ध 

- वह श्याम पर बरस गया ।                       वह श्याम पर बरस पड़ा । 
- उसकी अक्ल चक्कर खा गई ।                  उसकी अक्ल चकरा गई ।     

9 - क्रिया विशेषण सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 

       अशुद्ध                                           शुद्ध  

- वह लगभग रोने लगा ।                       वह रोने लगा । 
- उसका सर नीचे था ।                           उसका सर नीचा था । 

10 - अव्यय सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 

       अशुद्ध                                              शुद्ध 

-  वे संतान को लेकर दुखी थे ।                  वे संतान के कारण दुखी थे । 
- वहां अपार जनसमूह एकत्रित था ।            वहां अपार जन -समूह एकत्र था । 

11 -  वाक्यगत सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 

          अशुद्ध                                            शुद्ध   

- तलवार की नोक पर -                         तलवार की धार पर - 
- मेरी आयु बीस की है ।                        मेरी अवस्था बीस वर्ष की है । 

12 - पुनरुक्ति सम्बन्धी अशुद्धियाँ = 

           अशुद्ध                                             शुद्ध 

- मेरे पिता सज्जन पुरुष हैं ।                      मेरे पिता सज्जन हैं । 
- वे गुनगुने गर्म पानी से स्नान करते हैं ।      वे गुनगुने पानी से स्नान करते हैं । 







Pronunciation Errors (उच्चारणगत अशुद्धियाँ )




उच्चारणगत अशुद्धियाँ = बोलने और लिखने में होने वाली अशुद्धियाँ प्राय: दो प्रकार की होतीहैं 
- व्याकरण सम्बन्धी तथा उच्चारण सम्बन्धी , यहाँ हम उच्चारण एवं वर्तनी सम्बन्धी महत्वपूर्ण त्रुटियों  की ओर संकेत करंगे , ये अशुद्धियाँ स्वर एवं व्यंजन और विसर्ग तीनों वर्गों से सम्बन्धित होती हैं , व्यंजन सम्बन्धी त्रुटियाँ वर्तनी के अन्तर्गत आ गई हैं , नीचे  स्वर 
एवं विसर्ग सम्बन्धी अशुद्धियों की और इंगित किया गया है !

अशुद्धियाँ और उनके शुद्ध रूप - 

1 . - स्वर या मात्रा सम्बन्धी अशुद्धियाँ -

1 - अ ,आ सम्बन्धी भूलें - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- अहार               आहार 
- अजमायश        आजमाइश 

2 - इ , ई सम्बन्धी भलें =  की मात्रा होनी चाहिए ,  की नहीं - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- कोटी               कोटि 
- कालीदास         कालिदास 

= इ की मात्रा छूट गई है , होनी चाहिए - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- वाहनी              वाहिनी 
- नीत                 नीति 

= इ की मात्रा नहीं होनी चाहिए - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- वापिस             वापस 
- अहिल्या           अहल्या 

 की मात्रा होनी चाहिए , इ की नहीं - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- निरोग              नीरोग 
- दिवाली             दीवाली 

3 - उ ,ऊ सम्बन्धी भूलें - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- तुफान              तूफान 
- वधु                  वधू 

4 -  सम्बन्धी भलें - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- उरिण               उऋण 
- आदरित            आदृत 

5 - ए ,ऐ ,अय सम्बन्धी भलें - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- नैन                 नयन 
- सैना                सेना 
- चाहिये             चाहिए 

6 -  और यी सम्बन्धी भलें - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- नई                 नयी 
- स्थाई              स्थायी 

7 - ओ , और ,अव ,आव  सम्बन्धी भूलें - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- चुनाउ              चुनाव 
- होले                हौले 

8 - अनुस्वार और अनुनासिक सम्बन्धी भलें - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- गंवार               गँवार 
- अंधेरा               अँधेरा    

9 - पंचम वर्ण का प्रयोग - ज् , ण ,न , म , ङ्  को पंचमाक्षर कहते हैं ,ये अपने वर्ग के व्यंजन के साथ प्रयुक्त होते हैं - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप

- कन्धा               कंधा 
- सम्वाद              संवाद 

10 - विसर्ग सम्बन्धी भूलें - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- दुख                 दुःख 
- अंताकरण         अंत:करण 

- सन्धि करने में भूलें - ( स्वर सन्धि )-

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- अत्याधिक        अत्यधिक 
- अनाधिकार       अनधिकार 
- सदोपदेश          सदुपदेश 

व्यंजन सन्धि में भूलें  - 

अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- महत्व            महत्त्व 
- उज्वल            उज्ज्वल 
- सम्हार            संहार 

विसर्ग सन्धि में भूलें - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- अतेव              अतएव 
- दुस्कर             दुष्कर 
- यशगान           यशोगान 

समास सम्बन्धी भूलें - 

  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 

- उस्मा              ऊष्मा 
- ऊषा                उषा 
- अध्यन            अध्ययन 


Words with Different Meanings and Same Pronunciation (श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द)




श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द :- ये शब्द चार शब्दों से मिलकर बना है ,श्रुति+सम +भिन्न +अर्थ , इसका अर्थ है . सुनने में समान लगने वाले किन्तु भिन्न अर्थ वाले दो शब्द अर्थात वे शब्द जो सुनने और उच्चारण करने में समान प्रतीत हों, किन्तु उनके अर्थ भिन्न -भिन्न हों , वे श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द कहलाते हैं . 

ऐसे शब्द सुनने या  उच्चारण करने में समान भले प्रतीत हों ,किन्तु समान होते नहीं हैं , इसलिए उनके अर्थ में भी परस्पर भिन्नता होती है ; जैसे - अवलम्ब और अविलम्ब . दोनों शब्द सुनने में समान लग रहे हैं , किन्तु वास्तव में समान हैं नहीं ,अत: दोनों शब्दों के अर्थ भी पर्याप्त भिन्न हैं , 'अवलम्ब ' का अर्थ है - सहारा , जबकि  अविलम्ब का अर्थ है - बिना विलम्ब के अर्थात शीघ्र . 

ये शब्द निम्न इस प्रकार से है - 

अंस - अंश = कंधा - हिस्सा 

अंत - अत्य = समाप्त - नीच 

अन्न -अन्य = अनाज -दूसरा 

अभिराम -अविराम = सुंदर -लगातार 

अम्बुज - अम्बुधि = कमल -सागर 

अनिल - अनल = हवा -आग 

अश्व - अश्म = घोड़ा -पत्थर 

अनिष्ट - अनिष्ठ = हानि - श्रद्धाहीन 

अचर - अनुचर = न चलने वाला - नौकर 

अमित - अमीत = बहुत - शत्रु 

अभय - उभय = निर्भय - दोनों 

अस्त - अस्त्र = आँसू - हथियार 

असित - अशित = काला - भोथरा 

अर्घ - अर्घ्य = मूल्य - पूजा सामग्री 

अली - अलि = सखी - भौंरा 

अवधि - अवधी = समय - अवध की भाषा 

आरति - आरती = दुःख - धूप-दीप 

आहूत - आहुति = निमंत्रित - होम 

आसन - आसन्न = बैठने की वस्तु - निकट 

आवास - आभास = मकान - झलक 

आभरण - आमरण = आभूषण - मरण तक 

आर्त्त - आर्द्र = दुखी - गीला 

ऋत - ऋतु = सत्य - मौसम 

कुल - कूल = वंश - किनारा 

कंगाल - कंकाल = दरिद्र - हड्डी का ढाँचा 

कृति - कृती = रचना - निपुण 

कान्ति - क्रान्ति = चमक - उलटफेर 

कलि - कली = कलयुग - अधखिला फूल 

कपिश - कपीश = मटमैला - वानरों का राजा 

कुच - कूच = स्तन - प्रस्थान 

कटिबन्ध - कटिबद्ध = कमरबन्ध - तैयार / तत्पर 

छात्र - क्षात्र = विधार्थी - क्षत्रिय 

गण - गण्य = समूह - गिनने योग्य 

चषक - चसक = प्याला - लत 

चक्रवाक - चक्रवात = चकवा पक्षी - तूफान 

जलद - जलज = बादल - कमल 

तरणी - तरुणी = नाव - युवती 

तनु - तनू = दुबला - पुत्र 

दारु - दारू = लकड़ी - शराब 

दीप - द्वीप = दिया - टापू 

दिवा - दीवा = दिन - दीपक 

देव - दैव = देवता - भाग्य 

नत - नित = झुका हुआ - प्रतिदिन 

नीर - नीड़ = जल - घोंसला 

नियत - निर्यात = निश्चित - भाग्य 

नगर - नागर = शहर - शहरी 

निशित - निशीथ = तीक्ष्ण - आधी रात 

नमित - निमित = झुका हुआ - हेतु 

नीरद - नीरज = बादल - कमल 

नारी - नाड़ी = स्त्री - नब्ज 

निसान - निशान = झंडा - चिन्ह 

निशाकर - निशाचर = चन्द्रमा - राक्षस 

पुरुष - परुष = आदमी - कठोर 

प्रसाद - प्रासाद = कृपा - महल 

परिणाम - परिमाण = नतीजा - मात्रा 




Hindi Chhand (छंद)



छंद       (Chhand)


                    
छंद -   अक्षरों की संख्या एवं क्रम ,मात्रा गणना तथा यति -गति के सम्बद्ध विशिष्ट नियमों से नियोजित पघरचना ' छंद ' कहलाती है ! 

छंद के अंग इस प्रकार है - 

1 . चरण - छंद में प्राय: चार चरण होते हैं ! पहले और तीसरे चरण को विषम चरण तथा दूसरे और चौथे चरण को सम चरण कहा जाता है ! 

2 . मात्रा और वर्ण - मात्रिक छंद में मात्राओं को गिना जाता है ! और वार्णिक छंद में वर्णों को !  दीर्घ स्वरों के उच्चारण में ह्वस्व स्वर की तुलना में दुगुना समय लगता है ! ह्वस्व स्वर की एक मात्रा एवं दीर्घ स्वर की दो मात्राएँ गिनी जाती हैं ! वार्णिक छंदों में वर्णों की गिनती की जाती है !

3 . लघु एवं गुरु - छंद शास्त्र में ये दोनों वर्णों के भेद हैं ! ह्वस्व को लघु वर्ण एवं दीर्घ को गुरु वर्ण कहा जाता है ! ह्वस्व अक्षर का चिन्ह ' । ' है ! जबकि दीर्घ का चिन्ह  ' s ' है !         

= लघु - अ ,इ ,उ एवं चन्द्र बिंदु वाले वर्ण लघु गिने जाते हैं ! 

= गुरु - आ ,ई ,ऊ ,ऋ ,ए ,ऐ ,ओ ,औ ,अनुस्वार ,विसर्ग युक्त वर्ण गुरु होते हैं ! संयुक्त वर्ण के पूर्व का लघु वर्ण भी गुरु गिना जाता है ! 

4 . संख्या और क्रम - मात्राओं एवं वर्णों की गणना को संख्या कहते हैं तथा लघु -गुरु के स्थान निर्धारण को क्रम कहते हैं ! 

5 . गण - तीन वर्णों का एक गण होता है ! वार्णिक छंदों में गणों की गणना की जाती है ! गणों की संख्या आठ है ! इनका एक सूत्र है - 

              ' यमाताराजभानसलगा '
                                     
इसके आधार पर गण ,उसकी वर्ण योजना ,लघु -दीर्घ आदि की जानकारी आसानी से हो जाती है ! 

      गण का नाम             उदाहरण           चिन्ह 

1 .  यगण                      यमाता             ISS

2    मगण                      मातारा             SSS

3 .  तगण                       ताराज             SSI

4 .  रगण                        राजभा            SIS

5 .  जगण                       जभान            ISI

6 .  भगण                       भानस            SII

7 .  नगण                       नसल              III

8 .  सगण                       सलगा            IIS

6. यति -गति -तुक -  यति का अर्थ विराम है , गति का अर्थ लय है ,और तुक का अर्थ अंतिम वर्णों की आवृत्ति है ! चरण के अंत में तुकबन्दी के लिए समानोच्चारित शब्दों का प्रयोग होता है ! जैसे - कन्त ,अन्त ,वन्त ,दिगन्त ,आदि तुकबन्दी वाले शब्द हैं , जिनका प्रयोग करके छंद की रचना की जा सकती है ! यदि छंद में वर्णों एवं मात्राओं का सही ढंग से प्रयोग प्रत्येक चरण से हुआ हो तो उसमें स्वत: ही ' गति ' आ जाती है ! 

- छंद के दो भेद है - 

1 . वार्णिक छंद - वर्णगणना के आधार पर रचा गया छंद वार्णिक छंद कहलाता है ! ये दो प्रकार के होते हैं - 
क . साधारण - वे वार्णिक छंद जिनमें 26 वर्ण तक के चरण होते हैं ! 
ख . दण्डक - 26 से अधिक वर्णों वाले चरण जिस वार्णिक छंद में होते हैं उसे दण्डक कहा जाता है ! घनाक्षरी में 31 वर्ण होते हैं अत: यह दण्डक छंद का उदाहरण है ! 

2 . मात्रिक छंद - मात्राओं की गणना पर आधारित छंद मात्रिक छंद कहलाते हैं ! यह गणबद्ध नहीं होता ।  दोहा और चौपाई मात्रिक छंद हैं ! 

प्रमुख छंदों का परिचय:

1 . चौपाई - यह मात्रिक सम छंद है। इसमें चार चरण होते हैं . प्रत्येक चरण में सोलह मात्राएँ होती हैं . पहले चरण की तुक दुसरे चरण से तथा तीसरे चरण की तुक चौथे चरण से मिलती है . प्रत्येक चरण के अंत में यति होती है। चरण के अंत में जगण (ISI) एवं तगण (SSI) नहीं होने चाहिए।  जैसे :

 I I  I I  S I   S I   I I   S I I    I I   I S I   I I   S I  I S I I
जय हनुमान ग्यान गुन सागर । जय कपीस तिहु लोक उजागर।।
राम दूत अतुलित बलधामा । अंजनि पुत्र पवन सुत नामा।। 
S I  SI   I I I I    I I S S     S I I   SI  I I I  I I   S S

2. दोहा - यह मात्रिक अर्द्ध सम छंद है। इसके प्रथम एवं तृतीय चरण में 13 मात्राएँ और द्वितीय एवं चतुर्थ चरण में 11 मात्राएँ होती हैं . यति चरण में अंत में होती है . विषम चरणों के अंत में जगण (ISI) नहीं होना चाहिए तथा सम चरणों के अंत में लघु होना चाहिए। सम चरणों में तुक भी होनी चाहिए। जैसे - 

 S  I I  I I I   I S I  I I    I I   I I   I I I   I S I
 श्री गुरु चरन सरोज रज, निज मन मुकुर सुधारि ।
 बरनउं रघुवर विमल जस, जो दायक फल चारि ।। 
 I I I I  I I I I  I I I    I I    S  S I I   I I   S I

3. सोरठा - यह मात्रिक अर्द्धसम छंद है !इसके विषम चरणों में 11मात्राएँ एवं सम चरणों में 13 मात्राएँ होती हैं ! तुक प्रथम एवं तृतीय चरण में होती है ! इस प्रकार यह दोहे का उल्टा छंद है ! 
जैसे - 

SI  SI   I I  SI    I S  I I I   I I S I I I 
कुंद इंदु सम देह , उमा रमन करुनायतन । 
जाहि दीन पर नेह , करहु कृपा मर्दन मयन ॥ 
 S I  S I  I I  S I    I I I  I S  S I I  I I I   

4. कवित्त - वार्णिक समवृत्त छंद जिसमें 31 वर्ण होते हैं ! 16 - 15 पर यति तथा अंतिम वर्ण गुरु होता है ! जैसे - 

सहज विलास हास पियकी हुलास तजि , = 16  मात्राएँ 
दुख के  निवास  प्रेम  पास  पारियत है !  = 15 मात्राएँ 

कवित्त को घनाक्षरी भी कहा जाता है ! कुछ लोग इसे मनहरण भी कहते हैं ! 

5 . गीतिका - मात्रिक सम छंद है जिसमें 26 मात्राएँ होती हैं ! 14 और 12 पर यति होती है तथा अंत में लघु -गुरु का प्रयोग है ! जैसे - 

मातृ भू सी मातृ भू है , अन्य से तुलना नहीं  । 

6 . द्रुत बिलम्बित - वार्णिक समवृत्त छंद में कुल 12 वर्ण होते हैं ! नगण , भगण , भगण,रगण का क्रम रखा जाता है !  जैसे - 

न जिसमें कुछ पौरुष हो यहां 
सफलता वह पा सकता कहां  ? 

7 . इन्द्रवज्रा - वार्णिक समवृत्त , वर्णों की संख्या 11 प्रत्येक चरण में दो तगण ,एक जगण और दो गुरु वर्ण । जैसे - 

होता उन्हें केवल धर्म प्यारा ,सत्कर्म ही जीवन का सहारा  । 

8 . उपेन्द्रवज्रा - वार्णिक समवृत्त छंद है ! इसमें वर्णों की संख्या प्रत्येक चरण में 11 होती है । गणों का क्रम है - जगण , तगण ,जगण और दो गुरु । जैसे - 

बिना विचारे जब काम होगा ,कभी न अच्छा परिणाम होगा । 

9 . मालिनी - वार्णिक समवृत्त है , जिसमें 15 वर्ण होते हैं ! 7 और 8 वर्णों के बाद यति होती है। 
गणों का क्रम नगण ,नगण, भगण ,यगण ,यगण । जैसे - 

पल -पल जिसके मैं पन्थ को देखती थी  । 
निशिदिन जिसके ही ध्यान में थी बिताती  ॥ 

10 . मन्दाक्रान्ता - वार्णिक समवृत्त छंद में 17 वर्ण भगण, भगण, नगण ,तगण ,तगण और दो गुरु वर्ण के क्रम में होते हैं । यति 10 एवं 7 वर्णों पर होती है ! जैसे - 

कोई पत्ता नवल तरु का पीत जो हो रहा हो  । 
तो प्यारे के दृग युगल के सामने ला उसे ही  । 
धीरे -धीरे सम्भल रखना औ उन्हें यों बताना  । 
पीला होना प्रबल दुःख से प्रेषिता सा हमारा  ॥ 

11 . रोला - मात्रिक सम छंद है , जिसके प्रत्येक चरण में 24 मात्राएँ होती  हैं तथा 11 और 13 पर यति होती है ! प्रत्येक चरण के अंत में दो गुरु या दो लघु वर्ण होते हैं ! दो -दो चरणों में तुक आवश्यक है ! जैसे - 

 I I   I I   SS   I I I    S I    S S I   I I I  S 
नित नव लीला ललित ठानि गोलोक अजिर में । 
रमत राधिका संग रास रस रंग रुचिर में ॥ 
I I I   S I S   SI   SI  I I  SI  I I I  S     


12 . बरवै - यह मात्रिक अर्द्धसम छंद है जिसके विषम चरणों में 12 और सम चरणों में 7 मात्राएँ होती हैं ! यति प्रत्येक चरण के अन्त में होती है ! सम चरणों के अन्त में जगण या तगण होने से बरवै की मिठास बढ़ जाती है ! जैसे - 

S I   SI   I  I   S I I     I S  I S I
वाम अंग शिव शोभित , शिवा उदार । 
सरद सुवारिद में जनु , तड़ित बिहार ॥ 
I I I  I S I I   S  I I    I I I   I S I      

13 . हरिगीतिका - यह मात्रिक सम छंद हैं ! प्रत्येक चरण में 28 मात्राएँ होती हैं ! यति 16    और 12 पर होती है तथा अंत में लघु और गुरु का प्रयोग होता है ! जैसे - 

कहते हुए यों उत्तरा के नेत्र जल से भर गए । 
हिम के कणों से पूर्ण मानो हो गए पंकज नए ॥ 
 I I   S  IS   S  SI  S S  S  IS  S I I   IS

14. छप्पय - यह मात्रिक विषम छंद है ! इसमें छ: चरण होते हैं - प्रथम चार चरण रोला के अंतिम दो चरण उल्लाला के ! छप्पय में उल्लाला के सम -विषम चरणों का यह योग 15 + 13 = 28 मात्राओं वाला अधिक प्रचलित है ! जैसे - 

I S  I S I    I S I   I  I I S  I I  S  I I  S
रोला की पंक्ति (ऐसे चार चरण ) - जहां स्वतन्त्र विचार न बदलें मन में मुख में उल्लाला की पंक्ति (ऐसे दो चरण ) - सब भांति सुशासित हों जहां , समता के सुखकर नियम  । 
I I   S I   I S I I    S   I S    I I S  S   I I I I   I I I 

15. सवैया - वार्णिक समवृत्त छंद है ! एक चरण में 22 से लेकर 26 तक वर्ण होते हैं ! इसके कई भेद हैं ! जैसे - 

(1) मत्तगयंद (2)  सुन्दरी सवैया (3)  मदिरा सवैया  (4)  दुर्मिल सवैया  (5)  सुमुखि सवैया   (6)किरीट सवैया (7)  गंगोदक सवैया (8)  मानिनी सवैया  (9)  मुक्तहरा सवैया (10)  बाम सवैया  (11)  सुखी सवैया (12)  महाभुजंग प्रयात  

यहाँ मत्तगयंद सवैये का उदाहरण प्रस्तुत है - 

सीख पगा न झगा तन में प्रभु जाने को आहि बसै केहि ग्रामा  । 
धोती फटी सी लटी दुपटी अरु पांव उपानह की नहिं सामा  ॥ 
द्वार खड़ो द्विज दुर्बल एक रहयो चकिसो वसुधा अभिरामा  । 
पूछत दीन दयाल को धाम बतावत आपन नाम सुदामा  ॥  

यहाँ ' को ' शब्द को ह्वस्व पढ़ा जाएगा तथा उसकी मात्रा भी एक ही गिनी जाती है ! मत्तगयंद सवैये में 23 अक्षर होते हैं ! प्रत्येक चरण में सात भगण ( SII ) और अंत में दो गुरु वर्ण होते हैं तथा चारों चरण तुकान्त होते हैं ! 

16. कुण्डलिया - मात्रिक विषम संयुक्त छंद है जिसमें छ: चरण होते हैं! इसमें एक दोहा और एक रोला होता है ! दोहे का चौथा चरण रोला के प्रथम चरण में दुहराया जाता है तथा दोहे का प्रथम शब्द ही रोला के अंत में आता है ! इस प्रकार कुण्डलिया का प्रारम्भ जिस शब्द से होता है उसी से इसका अंत भी होता है ! जैसे - 

SS   I I S  S I  S   I I S  I  SS  S I
सांई अपने भ्रात को ,कबहुं न दीजै त्रास  । 
पलक दूरि नहिं कीजिए , सदा राखिए पास  ॥ 
सदा राखिए पास , त्रास कबहुं नहिं दीजै  । 
त्रास दियौ लंकेश ताहि की गति सुनि लीजै  ॥ 
कह गिरिधर कविराय राम सौं मिलिगौ जाई  । 
पाय विभीषण राज लंकपति बाज्यौ सांई  ॥ 
S I   I S I I   S I  S I I I    S S   S S     



Designed By Blogger Templates